Month: August 2020

Tirukkural – on patience and forbearance

அகழ்வாரைத் தாங்கும் நிலம்போலத் தம்மைஇகழ்வார்ப் பொறுத்தல் தலை.  Akazhvaaraith Thaangum Nilampolath ThammaiIkazhvaarp Poruththal Thalai (151) To bear with those who revile us, just as the earth bears up those who dig it, is the greatest of virtues. धारणात् खनकस्यापि धरण्या इव नि:समा ।स्वापराधिषु या क्षान्ति: स धर्म: परमो नृणाम् ॥ (१५१) क्षमा क्षमा कर ज्यों धरे, जो …

Tirukkural – on patience and forbearance Read More »

Rang de chunariya…

श्याम पिया मोरी रंग दे चुनरिया । ऐसी रंग दे, के रंग नहीं छुटे ।धोभिया धोये चाहे सारी उमरिया ॥ लाल ना रंगाऊं मैं, हरी ना रंगाऊ ।अपने ही रंग में रंग दे चुनरिया ॥ बिना रंगाये मैं तो घर नाही जाउंगी ।बीत ही जाए चाहे सारी उमरिया ॥ मीरा के प्रभु गिरिधर नागर ।प्रभु …

Rang de chunariya… Read More »

Tirukkural – on good conduct

மறப்பினும் ஓத்துக் கொளலாகும் பார்ப்பான்பிறப்பொழுக்கங் குன்றக் கெடும்.  Marappinum Oththuk Kolalaakum PaarppaanPirappozhukkang Kundrak Ketum (134) If a learned man forgets the scriptures, he can relearn them. But if he forgets right conduct, there is no redemption. अधीतविस्मृतं वेदं प्राप्नोति पठनात् पुन: ।विप्रो नषकुलाचार: पुनर्नाप्नोति विप्रताम् ॥ (१३४) संभव है फिर अध्ययन, भूल गया यदि वेद ।आचारच्युत विप्र के, होगा …

Tirukkural – on good conduct Read More »

Tirukkural – on self-restraint

செறிவறிந்து சீர்மை பயக்கும் அறிவறிந்துஆற்றின் அடங்கப் பெறின்.  Serivarindhu Seermai Payakkum ArivarindhuAatrin Atangap Perin (123) If one exercises self-restraint with knowledge and intent, he will be counted among the wise. ज्ञातव्यं तत्वतो ज्ञात्वा संयमी यो भवेन्नर: ।महात्मनां गुणाज्ञानां कृपया स सुखी वसेत् ॥ (१२३) कोई संयमशील हो, अगर जानकर तत्व ।संयम पा कर मान्यता, देगा उसे महत्व …

Tirukkural – on self-restraint Read More »

Tirukkural – on justice and impartiality

தக்கார் தகவிலர் என்பது அவரவர்எச்சத்தாற் காணப்ப படும்.   Thakkaar Thakavilar Enpadhu AvaravarEchchaththaar Kaanap Patum (114) The just and unjust shall be known by the reputation that they leave behind. अयं माध्यस्थ्यवर्तीति विपरीतोऽयमित्यपि ।सदसत्पुत्रजन्मभ्यां ज्ञातुं शक्यं विशेषत: ॥ (११४) कोई ईमान्दार है, अथवा बेईमान ।उन उनके अवशेष से, होती यह पहचान ॥ (११४) ಸಮಭಾವವುಳ್ಳವರೆ, ಅಲ್ಲವೆ ಎಂಬುದನ್ನು ಅವರವರ ಮಕ್ಕಳ …

Tirukkural – on justice and impartiality Read More »

Tirukkural – on gratefulness

செய்யாமல் செய்த உதவிக்கு வையகமும்வானகமும் ஆற்றல் அரிது.   Seyyaamal Seydha Udhavikku VaiyakamumVaanakamum Aatral Aridhu (101) The gift of heaven and earth is not an equivalent for help that is given where none had been received. अस्माभिरकृते साह्ये यस्तु साह्‌यं करोति न: ।लोकद्वयप्रदानेऽपि तस्य नास्ति प्रतिक्रिया ॥ (१०१) उपकृत हुए बिना करे, यदि कोइ उपकार ।दे कर भू …

Tirukkural – on gratefulness Read More »

Tirukkural – on pleasant speech

பணிவுடையன் இன்சொலன் ஆதல் ஒருவற்குஅணியல்ல மற்றுப் பிற.   Panivutaiyan Insolan Aadhal OruvarkuAniyalla Matrup Pira (95) Humility and sweetness of speech are the ornaments of man; everything else is secondary. विनयो मधुरालाप: द्वयमाभरणं नृणाम् ।ताभ्यां द्वाभ्यां विहीनस्य किमन्यैर्भूषणै: फलम् ॥ (९५) मृदुभाषी होना तथा, नम्र-भाव से युक्त ।सच्चे भूषण मनुज के, अन्य नहीं है उक्त ॥ (९५) ವಿನಯಶೀಲನಾಗಿರುವುದು, …

Tirukkural – on pleasant speech Read More »

Tirukkural – on serving guests

விருந்து புறத்ததாத் தானுண்டல் சாவாமருந்தெனினும் வேண்டற்பாற் றன்று.  Virundhu Puraththadhaath Thaanuntal SaavaaMarundheninum Ventarpaar Randru (82) It is not fit that one should wish his guests to be outside the house, even though he were eating the food of immortality. प्रियातिथिमसम्मान्य गृहे यद्वस्तु भुज्यते ।साक्षादमृतमेवास्तु न तच्छ्‌लाघ्यं कदाचन ॥ (८२) बाहर ठहरा अतिथि को, अन्दर बैठे आप ।देवामृत …

Tirukkural – on serving guests Read More »

Tirukkural – the virtues of love

அன்பிற்கும் உண்டோ அடைக்குந்தாழ் ஆர்வலர்புன்கணீர் பூசல் தரும்.  Anpirkum Unto Ataikkundhaazh AarvalarPunkaneer Poosal Tharum (71) Can love be hidden? It will reveal itself in the tiny teardrop that forms when a loved one is in distress. अर्गलं नास्ति हि प्रीते: प्रीतानामश्रुबिन्दव: ।प्रकाशयन्ति सर्वेषां प्रीतिमन्त:स्थितामपि ॥ (७१) अर्गल है क्या जो रखे, प्रेमी उर में प्यार ।घोषण करती …

Tirukkural – the virtues of love Read More »